रचना चोरों की शामत

Friday, 4 July 2014

हाथ तेरा थामना अच्छा लगा


कल हुआ जो वाक़या, अच्छा लगा।
हाथ तेरा थामना अच्छा लगा।
 
जिस्म तो काँपा जो तूने प्यार से
कुछ हथेली पर लिखा, अच्छा लगा।
 
देख कर मशगूल हमको इस कदर
चाँद का मुँह फेरना अच्छा लगा।
 
घाट रेतीले जलधि के नम हुए
मछलियों का तैरना अच्छा लगा।
 
आसमाँ में बिजलियों की कौंध में
बादलों का काफिला, अच्छा लगा।
 
नाम ले तूने पुकारा जब मुझे
वादियों में गूँज उठा, अच्छा लगा।
 
बर्फ में लिपटे पहाड़ों का बहुत
दूर तक वो सिलसिला, अच्छा लगा।   
 
“कल्पना” फिर वो तेरा वादा प्रियम!
उम्र भर के साथ का, अच्छा लगा।


- कल्पना रामानी  

2 comments:

कालीपद प्रसाद said...

बहुत उम्दा ग़ज़ल कल्पना जी !
नई रचना उम्मीदों की डोली !

पवन प्रताप सिंह "पवन" said...

बहुत सुंदर गजल … वाह्हहहहहह
बहुत अच्छा लगा
__/\__
नमन

समर्थक

मेरी मित्र मंडली

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र