रचना चोरों की शामत

Wednesday, 19 October 2016

आशाओं के दीप

 दीपावली के लिए चित्र परिणाम
आँगन-आँगन आशाओं के दीप जलाती
मन रोशन हो जाते, जब दीवाली आती

छोड़ रंज-गम हो जाता ब्रह्मांड राममय
दिशा-दिशा दुनिया की, मंगल-गान सुनाती

सपनों का नव-सूर्य, उदित होता अंबर में
और बाँचती प्रात नवल, अपनों की पाती

देख-देख कर दिव्य-ज्योत्सना, फैली जग में
प्राण-प्राण के नेह-दियों की, लौ बढ़ जाती  

तोरण सजते द्वार, अल्पना देहरी-देहरी
घर-घर को हर घरणी पावन-धाम बनाती

जब करता आह्वान जगत तब स्वर्ग-लोक से
सुख-समृद्धि के ले चिराग, लक्ष्मी उतर आती

पर्वों के अमृत से बनता जीवन उत्सव
दिल मिलते इस तरह कि जैसे दीपक-बाती  

मावस को दे मात, कालिमा काट, ‘कल्पना
दीपमालिका तीन लोक तक रजत बिछाती
   
- कल्पना रामानी

2 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि- आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (21-10-2016) के चर्चा मंच "करवा चौथ की फि‍र राम-राम" {चर्चा अंक- 2502} पर भी होगी!
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Digamber Naswa said...

बहुत सुन्दर ... मधुर धब्द दीपावली के आगमन पर ...

समर्थक

मेरी मित्र मंडली

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र

सम्मान पत्र